सोचता हूं अपने हालात कि किस्से क्या शिकायत करूं, कोइ मिल जाय ऐैसा जिस्से जिंदगी कि वकालत करूँ।

अशकों मे बेहति जा रही  है जिंदगी, अब इन अशकों से उनके बहने कि किस्से क्या शिकायत करूं।670px-Interpret-Your-Dreams-Step-4

वक्त के पहियों में सिमट गई हे जिंदगी, पता हि नहीं चला कि कब कुछ अपने पराये हो गये ओर कब पराये अपनों से भि ज्यादा प्यारे हो गये।

फुरसत के वो लम्हें पता नहिं क्यों जुदा हो गये, जिन लम्हों मे कभि तलाशी  थी जिंदगी, अब वो लम्हे भि बेवफा हो गये।

युं तो वक्त मिलता नहिं जालिम, लेकिन जब भि मिलता हे तो निकल जाता हूं उन खुशी के लम्हों को  धूंडने मे जो वक्त  कि आपा-धापि मे कहिं खो गये।

अब इस बात कि किस्से क्या शिकायत करूं।

जि्ंदगी  की कशमकश कुछ ऐसि हे जिस के लिये दिल में कोइ चाहत नहीं उसके साथ ता उम्र रहना मजबूरी हे ओर जिसके लिये दिल मे बे इम्तहा मोहाब्बत हे उसके साथ बनानी पड़ती दूरी हे।

अब इस बात कि किस्से क्या शिकायत करूं।just_a_dream____by_enricoagostoni

जब कभि फुरसत मिलती हे तो उन पूरानी  तस्विरों को देख लेता हूं, ओर अपने पिता के साथ बिताए उन पलों को याद करता हूं, जब उन्होने चलना सिखाया था।

ओर अब जिंदगी कि रफ्तार मे इतना तेज चल पड़ा हूँ कि जब जब पैसों कि कमी होती हे तो उनको याद करता हूं ओर खुशी के पलों में उनके होने कि ना कभि फरियाद करता हूँ।

इस जिंदगी ने इतना मतलबि बना दिया अब इस बात कि कि किस्से क्या शिकायत करूं।

जो कभि ख्वाब देखे थे, अब वो ख्वाब टूट चुके हें, मंजिल पर पहुंचने कि जद्दो-जहद में कई अपने पीछे छुट चुके हें।

अब इस बात कि किस्से क्या शिकायत करूं।

धीरे-धीरे वक्त के साथ-साथ चलना अब सीख गया हूं दोस्तों, कुछ बातें हें जो दिल को बहुत दुखाती हें उनके साथ जीना सीख गया हूं। जिंदगी के इस मीठे जहर का धूंट पीना अब सीख गया हू़ं।

पहले जब उदास होता था तो मां कि गोद में सर होता था ओर हाथ मे मां का हाथ, अब उदास होता हू़ं तो मयखाने कि टेबल पर सर होता हे ओर हाथ में शराब का गिलास।

कितना बदल दिया हे जिंदगी ने,  इस बात कि किस्से क्या शिकायत करूं।

अभि तो जिंदगी आधी गुजरि हे ओर आधी अभी बाकि हे, अकेला चल पड़ा हूं रास्तों पर, ना कोइ संगि हे ना कोइ साथी है।lonely-man

जिनका मिला हे साथ, जिनके हाथों में हे हाथ, खुश हो जाता हूं जब हो जाति हे उनसे थोड़ि सि बात, पर डरता हूं कि जिंदगी कि आपा-धापि मे छूट ना जाये उनका साथ।

अब इस बात कि किस्से क्या शिकायत करूं।

Written & Scripted by: Rohit

Advertisements

The Zen Story Continued

Posted: August 29, 2014 in Motivation

One day, Mara, the Evil One, was going through a village with his attendant when he saw a man doing walking meditation whose face was lit up in wonder. The man had just discovered something lying in front of him. Mara’s attendant asked what that was and Mara replied, “A piece of truth.” His attendant thought a while and asked, “Does it not bother you when someone finds a piece of truth, O Evil One?” Unfazed, Mara replied, “No, because right after that, they usually make a religion out of it.”

Sure enough, the man picked up the piece of truth and took it home where he cleaned and polished it till it gleamed more than a diamond. Then he began travelling all over the country preac6b0f429afe4ef37afd502002f1aaf50e_1408949961hing about the truth until he had gathered a few close disciples around him and a large following of people who quickly became his devotees and, over time, the movement turned into a religion.

Seeing this, Mara’s attendant grew fearful. “It’s exactly as you had predicted, O Evil One,” he exclaimed. “But what will happen to us now that Good has yet another name and designation?” Mara smiled victoriously. “What will happen now,” he said, “is that they will begin fighting among themselves and splinter into different denominations. Then they will fight against other religions, and as their mutual hatred grows, we will prosper and emerge stronger.”

Then he gave another victory smile and added, “For, you see, Evil has never had any infighting or any denominations. Our singular unity is the main reason we have been around for so long without any Good ever being able to vanquish us.”

 

God-knowledge is the seed of God-realization.

Unless we sow a seed, there can neither be a plant nor flower nor fruit. God-knowledge is the seed which sprouts into the plant of love, blooms into the tree of faith and bears the coveted fruit of Salvation.

After sowing a seed, we have to nurture it. When it grows into a plant, we set up a fence around it so that it is not damaged or destroyed. Similarly, there is a need to tend the seed of God-knowledge by association with the saints, God-consciousness and the spirit of selfless service. In this way the seed of God-knowledge can bloom into a sprawling fruitful tree.

God-knowledge is a seed which has to be nurtured by faith in God, manured by God-devotion and watered by God-glorification.

Source: Maanavta.com

सही दिशा

Posted: May 16, 2014 in Motivation

एक पहलवान जैसा, हट्टा-कट्टा, लंबा-चौड़ा व्यक्ति सामान लेकर किसी स्टेशन पर उतरा। उसनेँ एक टैक्सी वाले से कहा कि मुझे साईँ बाबा के मंदिर जाना है।

टैक्सी वाले नेँ कहा- 200 रुपये लगेँगे। उस पहलवान आदमी नेँ बुद्दिमानी दिखाते हुए कहा- इतने पास के दो सौ रुपये, आप टैक्सी वाले तो लूट रहे हो। मैँ अपना सामान खुद ही उठा कर चला जाऊँगा।

वह व्यक्ति काफी दूर तक सामान लेकर चलता रहा। कुछ देर बाद पुन: उसे वही टैक्सी वाला दिखा, अब उस आदमी ने फिर टैक्सी वाले से पूछा – भैया अब तो मैने आधा से ज्यादा दुरी तर कर ली है तो अब आप कितना रुपये लेँगे?RightWay-RoadSign

टैक्सी वाले नेँ जवाब दिया- 400 रुपये।

उस आदमी नेँ फिर कहा- पहले दो सौ रुपये, अब चार सौ रुपये, ऐसा क्योँ।

टैक्सी वाले नेँ जवाब दिया- महोदय, इतनी देर से आप साईँ मंदिर की विपरीत दिशा मेँ दौड़ लगा रहे हैँ जबकि साईँ मँदिर तो दुसरी तरफ है।

उस पहलवान व्यक्ति नेँ कुछ भी नहीँ कहा और चुपचाप टैक्सी मेँ बैठ गया।

इसी तरह जिँदगी के कई मुकाम मेँ हम किसी चीज को बिना गंभीरता से सोचे सीधे काम शुरु कर देते हैँ, और फिर अपनी मेहनत और समय को बर्बाद कर उस काम को आधा ही करके छोड़ देते हैँ। किसी भी काम को हाथ मेँ लेनेँ से
पहले पुरी तरह सोच विचार लेवेँ कि क्या जो आप कर रहे हैँ वो आपके लक्ष्य का हिस्सा है कि नहीँ।

हमेशा एक बात याद रखेँ कि दिशा सही होनेँ पर ही मेहनत पूरा रंग लाती है और यदि दिशा ही गलत हो तो आप कितनी भी मेहनत का कोई लाभ नहीं मिल पायेगा। इसीलिए दिशा तय करेँ और आगे बढ़ेँ कामयाबी आपके हाथ जरुर थामेगी।

Original Publisher:

किरण साहू
रायगढ़ (छ.ग.)
Email- kiransahu746@gmail.com

You Are Never Powerless

Posted: April 4, 2014 in Motivation

You are never powerless because you have choice at every point. You’ve even had the power to make choices to be powerless. Why not make a choice now to be powerful? Why not use your power to bring your reference point back to you, to claim your strengths, your abilities, your gifts and your talents? If you will own your power, you will find that you can change anything.

Step into your power

For you to step into your power, you must take your power back from those warped and twisted definitions of power. You’ve had power to just give away and you need to take it back from all the authorities to whom you have given it to. Below is a powerful technique given by a group of non-physical beings that I am friends with called Galexis:

1. In your mind, see the person or thing out there that you are giving energy to. If it’s a thing, then personify it.
2. Imagine the power as a ball of light and mentally reach out and grab the power from them and bring it back into you.
3. While doing this, take a big in breath while saying, “Power that I gave to you, return to Me. Power Return to Me.” Repeat this three times.
4. Now, sense yourself as being really large, about 15-20 feet and see yourself looking down at this person. You’ve gotten bigger because you took your power back. Notice that they are not as solid or as vibrant because all their intensity of power was your energy.
5. In your mind, thank them for showing you where you gave your power away and for the opportunity to take it back.
6. Then forgive them.
7. And lastly, forgive yourself for giving your power away to them.

Article by:  Sanjay Yadav

Courtesy: Speakingtree.in

 

Supermassive_black_holeWhen a star of a certain size comes to the end of its life, as all stars do, it explodes and ejects material. What remains is a much smaller object with gravity so great that it begins imploding till it becomes smaller and smaller, and for all intents and purposes, disappears into a point called a singularity. However, it doesn’t disappear out ofexistence. It retains its concentrated gravitational energy and becomes a black hole.

Thereafter, things that venture into its vicinity — be they any object, heavenly or otherwise — are pulled into it to vanish into the singularity. Stephen Hawking, one of the most brilliant physicists of our times, wasn’t happy with this scenario for the simple reason that when things vanish away like that, then all the information in them also vanishes. Information doesn’t go away forever so simply. Instead, he postulated, maybe black holes begin spewing things they’ve swallowed. Today it’s called Hawking radiation.

But if there’s anything in the known universe that can possess the most information in the least space — thanks to some 100 billion neurons — it’s the human brain inside our skulls. So, at the end of our lives, what happens to that info? Does it go into the void of nothingness for all eternity in a personalised mini black hole? One wonders if that scenario too sits well with professor Hawking.

 Or could it be that death also leaks? If we go by some Eastern belief systems, then perhaps karmic reincarnation could constitute something like that. If we go by other traditions, then the idea of apparitions and poltergeists might mean the same.

 

धर्म आध्यत्मिक जीवन को सीमित नहीं कर सकता है। धर्म और आध्यात्मिकता के बीच भेद क्या है? इस सवाल का जवाब देना मुश्किल है। फिनलैण्ड का हन्नु मेरा सहपाठी था। हम दोनों लन्दन में पीएच डी की तैयारी कर रहे थे। मैं फ़्लैट में भी उसका साझेदार था। हन्नु घोर नास्तिक था और अभी भी है। मैं ने उसे निकट से जानने के बाद भी उसका बतिस्मा कर के उसका नाम सेंट हन्नु रख दिया था,यद्यपि ईश्वर या धर्म के लिये उसके जीवन के एजेन्डे मे कोई जगह नहीं थी। वह धर्म या ईश्वर के बिना भी एक समृद्ध आध्यात्मिक जीवन जी रहा था। एक व्यक्ति के रूप में उसके साथ रहना तमाम ‘धर्म’ वालों से कहीं ज़्यादा बेहतर था।url

हन्नु क्लास में सबसे ज़यादा पसंदीदा आदमी था, क्योंकि, और बातों के अलावा, इसलिये कि ज़रुरत पड़ने पर वह किसी की भी मदद करने को मौजूद रहता था और किसी ने भी उसे दूसरों की निंदा करते नहीं सुना था।अत: धार्मिक हुये बिना भी व्यक्ति आध्यात्मिक हो सकता है? इसका मतलब यह कहना नहीं है कि धर्म और अध्यात्म दोनों एक दूसरे के बिलकुल विपरीत हैं।

अध्यात्म के विकास में धर्म अक्सर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है, जैसाकि मदर टेरेसा के मामले में था, जिन्होने एक गहन आध्यात्मिक जीवन जिया और बिना जीज़स के वह अपना अस्तित्व सोच भी नहीं सकती थीं। हन्नु के उदाहरण में, धर्म के अभाव में आध्यात्मिकता में कोई कमी नहीं आई।

आध्यात्मिकता के गहनतर अनुभवों से प्रबुद्ध हुये लोग अक्सर धर्म के आदेशों के परे चले जाते हैं लेकिन अनिवार्यत: धर्म के विरुद्ध नहीं जाते हैं। उदाहरण के लिये, अधिकांश धर्मों मे प्रार्थना का एक निश्चित नियम है,लेकिन आप पायेंगे कि रहस्यवादी,चाहें वे किसी भी धर्म के हों, निश्चित रूपों से उठकर प्रार्थना के दूसरे स्तर पर पहुंच जाते हैं जहां उन्हे शब्दों की भी आवश्यकता नहीं रहती।

उन्हे ईश्वर के साथ संयोग के लिये गिरजाघर,मंदिर,मस्जिद या गुरुद्वारे जैसे विशेष प्रार्थना स्थल की ज़रूरत भी नही होती। धर्म और अध्यात्म के बीच में भेद क्यों किया जाय? सिर्फ इसलिये, जैसा कहा गया है,कि दुनिया की सर्वाधिक लड़ाईयाँ धर्म के नाम पर लड़ी गईं हैं।

आप तमाम संघर्षों के दर्शक रहे हैं जो धर्म के नाम पर हुये हैं और जिनकी परिणति हिंसा में हुई है। इससे लोग धर्म की भूमिका ही नहीं, जीवन मे इसकी आवश्यकता को लेकर भी उलझन में पड़ जाते हैं। जीज़स का जीवन और उपदेश यह दिखाते हैं कि उन्होने भी यह भेद किया था। उनकी आध्यत्मिकता अक्सर फारसियों की धार्मिक प्रथाओं के विरूद्ध होती थी, वे  उन कर्मकाण्डों के प्रति उनकी निष्ठा की अक्सर निंदा करते थे जिनमें आमजन के कल्याण की तनिक भी फिक्र नही थी।

“मैं तुमसे कहता हूं, जबतक तुम्हारी धर्मपरायणता सेरिबियों और फारसियों की धर्मपरायणता से आगे नहीं जायेगी, तुम किसी भी तरह स्वर्ग के राज्य में प्रवेश नहीं कर पाओगे”, और “झूठे पैग़म्बरों से सावधान रहो,जो तुम्हार पास भेड़ की खाल में आते है,लेकिन भीतर से वे भूखे भेड़िये होते हैं”।

बुद्ध के उपदेशों से भी यह प्रतीत होता है कि उन्होने भी धर्म और आध्यात्मिकता के बीच भेद किया था। यह विश्वास नहीं किया जाता है कि बौद्ध धर्म की अंतर्दृष्टि और ध्यान का व्यवहार दैवी रूप से उद्घाटित किया गया था, बल्कि आध्यात्मिकता के मार्ग पर व्यक्तिगत रूप से चलकर दुख की सच्ची प्रकृति की समझ से निकला था। चार आर्य सत्य बतलाते हैं कि दुख अस्तित्व का अंतर्भूत अंग है: दूख का मूल अज्ञान है और उस अज्ञान के मुख्य लक्षण मोह और तृष्णा हैं: अष्टमार्ग का अनुगमन करके मोह और लालसा का अंत किया जा सकता है: अष्टमार्ग मोह और लालसा के अंत की ओर ले जायेगा और इसलिये दुख के अंत की ओर।

Article by: डोमिनिक इमैनुएल

Source: Speakingtree.in